पूरे देश ने जमकर मनाई होली, दिखे सब जगह के अपने रंग

आज धुलेंडी पर रंगों में सारा हिन्दूस्तान रंग गया। काशी से लेकर उज्जैन तक होगी में धार्मिक और मस्ती संग संस्कृति के रंग नजर आए। होलिका दहन के साथ ही देश का कोना-कोना रंगों में डुब गया। आज धुलेंडी पर रंगों का खुमार हर खासो-आम पर जमकर दिखाई दिया। काशी में विश्वनाथ, उज्जैन में महाकाल और वृंदावन में बांकेबिहारी संग रंग खेलने के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ी। कृष्ण नगरी मथुरा और वृंदावन रंगों से सराबोर है।
वहीं वाराणसी के घाट भी सतरंगी हो गए हैं। पूरा देश होली खेले रघुवीरा की गूंज के साथ होली का जश्न मना रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने होली के पावन अवसर पर सभी देशवासियों को बधाई दी। राष्ट्रपति ने ट्वीट किया कि होली के पावन अवसर पर सभी देश-वासियों को बधाई और शुभकामनाएं! रंगों का यह त्यौहार हमारे समाज में आपसी सौहार्द का जश्न है। मेरी कामना है कि हर एक के जीवन में यह पर्व शांति, सुख और समृद्धि लाए। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को दी होली की शुभकामनाएं दी।
छटीकरा स्थित प्रियाकांतजू मंदिर में उमड़ी भीड़ पर हाइड्रोलिक पिचकारी से टेसू के रंगों की बरसात हुई। मंदिर में लठामार होली से लेकर लड्डू होली और रसिया गायन का हजारों श्रद्धालुओं ने आनंद उठाया। वहीं महाकाल में सबसे पहले भस्मारती में रंग पर्व मनाया गया। पुजारी और भक्त भगवान के साथ गुलाल होली खेल रहे हैं। इसके बाद नगर में उत्सव मनाया। वहीं होशंगाबाद के आर्ष गुरुकुल में पलाश के फूलों को उबालकर रंग बनाया जाता है और रंग में इत्र डालकर होली मनाते हैं। गुरकुल के प्रधानाचार्य सत्यसिंघु महाराज बताते हैं यहां 106 वर्ष से गुरकुल स्थापित है। प्राचीन परंपरा अनुसार प्राकृतिक रूप से पलाश के फूलों का रंग बनाया गया।


Hit Counter provided by laptop reviews