Category Archives: चैत्र नवरात्रि

हनुमान जयंती आज, इसलिए मनाई जाती है चैत्र की पूर्णिमा पर

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को हनुमान जयंती का पर्व मनाया जाता है। हनुमान जयंती को हनुमान जी के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। बजरंगबली को भगवान शिव का 11वां अवतार माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने ये वानरवतार श्रीराम के कार्यों को सिद्ध करने के लिए लिया था। बजरंगबली को कलयुग का देवता भी कहा जाता

उज्जैन में चिंतामन गणेश की तीसरी जत्रा भक्तों का लगा ताता

भगवान चिंतामण गणेश की चैत्र मास की तीसरी जत्रा पर भक्तों का ताता लगा रहा। बढ़ी संख्या में भक्तों ने भगवान चिंतामन गणेश के दर्शन लाभ लिया और अनेक किसानों ने नया अन्न अर्पण किया। इस दोरान भगवान का आकर्षक श्रृंगार किया गया।

विक्रम संवत की शंख नाद से हुई शुरुआत

देश भर में आज हिन्दू नव वर्ष मनाया जा रहा है। विक्रम संवत के नाम से मनाए जाने वाले इस नव वर्ष कि शुरुआत धार्मिक नगरी उज्जैन से ही हुई थी इसलिए इसका उज्जैन शहर में विशेष महत्त्व है। हिन्दू धर्म के नव वर्ष की शुरुआत माँ शिप्रा के तट से मंत्रोचारण के साथ की गई। पण्डे पुजारियों सहित लोगो ने यहाँ सूर्य देव को अर्ध्य देकर अपने नव वर्ष को प्रारंभ

चैत्र नवरात्रि के पहले दिन माता के मंदिरों में लगा भक्तों का ताता, यह जुड़ी है विक्रमादित्य की अनोखी कहानी

आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरू हुई माता की 9 दिवसीय आराधना की धूम पुरे देश में देखी जा रही है। चेत्र नवरात्री के शुरू होने के साथ माता के भक्तो की चहल-पहल बढ़ने तथा नवरात्री के उपवास का दौर भी शुरू हो गया है। चेत्र नवरात्री के दौरान सभी देवी मंदिरों में विशेष तैयारी की गई है। 52 शक्तिपीठ में से एक, उज्जैन के हरसिद्धि माता मंदिर पर भी

मकर संक्रांति पर दान का विशेष महत्व, जाने अपनी राशि के अनुसार क्या करें दान, होगा फायदा

मकर संक्रांति के दिन दान पुण्य का अत्यंत महत्व माना गया है। लेकिन हर व्यक्ति का सही दान करना अत्यधिक फायदेमंद होता है। मकर संक्रांति पर दान का बेहद महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन दान करने से कई यज्ञों के बराबर पुण्य प्राप्त होता है। बहुत से लोग संक्राति पर 14 चीजें दान करने का संकल्प भी लेते हैं। इस संकल्प के अंतर्गत 14

कार्तिक महीने की पूर्णिमा को मनाते है देव दीपावली

कार्तिक महीने की पूर्णिमा को देव दीपावली मनाई जाती है। यह पर्व दीपावली के 15 दिनों के बाद मनाया जाता है। ऐसा माना गया है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव और देवता दीपावली मनाते हैं और इस दिन सभी देवी और देवता काशी जाते हैं। ऐसे में यह पर्व उत्तर प्रदेश के लिए काफी अहम हो जाता है।

इस गुरुद्वारे की खुद गुरुनानक जी ने की स्थापना, हो जाती है सारी बीमारियां दूर

हर गुरुद्वारे में गुरुनानक साहेब की जयंती के लिए खास तैयारी हो गई है। वैसे तो हर गुरुद्वारा अपने आप में खास है लेकिन इस गुरुद्वारे के बारे में शायद आप जानते हो जिसकी स्थापना खुद गुरुनानक साहेब ने की थी। जब 1505 में गुरुनानक जी पहली बार दिल्ली आए थे तब उन्होंने इस गुरुद्वारे की स्थापना की थी, इस गुरुद्वारा सिख समुदाय के लिए

हरी से मिलने पहुंचे हर, देर रात तक लगी रही भक्तों की भीड़

उज्जैन में कार्तिक माह की बैकुंठ चतुर्दशी की अर्ध रात्रि को अदभुत नजारा देखने को मिला। यहाँ भगवान भोलेनाथ अपनी सवारी के साथ गोपाल मंदिर पहुचे और परंपरा अनुसार भगवान श्री कृष्ण को पृथ्वी का भार सोंप कर कैलाश पर्वत चले गए। भगवान श्री कृष्ण और भगवान भोलेनाथ के इस मिलन को हरी हर मिलन के रूप में मनाया गया।

दीपावली मिलन समारोह में मीडिया से रूबरू हुए मोदी, कही यह बाते…

पीएम नरेंद्र मोदी शनिवार को दिल्ली के भाजपा पार्टी मुख्यालय पर आयोजित हुए दीपावली मंगल मिलन कार्यक्रम में शामिल हुए। इस मौके पर मीडिया से मिले। उनसे अनुरोध किया कि राजनीतिक पार्टियों के आंतरिक लोकतंत्र और इसके मूल्यों पर एक स्वस्थ बहस करें, ताकि उनकी नेतृत्व क्षमता का विकास हो सके और उनकी भर्तियों में पारदर्शिता लाई

आंवला नवमी : करें आंवले के पेड़ की पूजा, कभी नहीं खत्म होता है पुण्य

कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को अक्षय नवमी के रूप में मनाया जाता है। इस बार आंवला नवमी 29 अक्टूबर को है। माना जाता है कि इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे बैठने और खाना खाने से कष्ट दूर हो जाते हैं। अक्षय नवमी का शास्त्रों के अनुसार अक्षय नवमी के दिन किया गया पुण्य कभी समाप्त नहीं होता है। इस दिन जो भी शुभ कार्य जैसे दान,


Hit Counter provided by laptop reviews